Home Blog Page 440

Navratri Ashtami Sarguja royal familys minister TS Singhdev worshiped the treaty


Publish Date: | Sat, 24 Oct 2020 04:58 PM (IST)

अंबिकापुर। Navratri 2020: शारदीय नवरात्र के अष्टमी और नवमी तिथि पर शनिवार को सरगुजा राजपरिवार के मुखिया व प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री टीएस सिंहदेव महामाया मंदिर में संधि पूजन राजसी परंपरा के अनुसार किया। इस दौरान कोई भी बाहरी व्यक्ति शामिल नहीं हुआ। राजपुरोहित पंडित बबलू महराज सहित अन्य पुजारियों के द्वारा मंत्रोच्चार के साथ यह विशेष पूजन संपन्न कराया जाएगा। महामाया में पूजा के बाद मंत्री सिंहदेव ने पास के ही समलाया मंदिर में भी पूजा किया।

बता दें कि नवरात्र में अष्टमी और नवमी तिथि को दो तिथि का मिलन होता है, इसलिए इसे संधि पूजा के नाम से जाना जाता है। संधि पूजा को अष्टमी तिथि के आखिरी 24 मिनट और नवमी तिथि शुरू होने के 24 मिनट बाद किया जाता है। एक कथा के मुताबिक, जिस समय माता चामुंडा और महिषासुर के बीच में भयंकर युद्ध हो रहा था। उस समय चंड और मुंड नाम के दो राक्षसों ने माता चामुंडा की पीठ पर वार कर दिया था। इसके बाद माता का मुख क्रोध के कारण नीला पड़ गया और माता ने दोनों राक्षस का वध कर दिया था, जिस समय उनका वध किया वह संधि काल था। यह मुहूर्त काफी शक्तिशाली माना जाता है,क्योंकि मां दुर्गा ने इस समय अपनी पूरी शक्ति का प्रयोग कर चंड और मुंड का वध कर दिया था।

सरगुजा राजपरिवार की कुलदेवी की पूजा करने पहुंचे राज परिवार के मुखिया टीएस सिंहदेव ने बकायदा धोती, कुर्ता और पीतांबर वस्त्र पहन रखे थे और परंपरा अनुसार उन्होंने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच संधि काल में पूजा की। राजपुरोहित के साथ मंदिर के पुजारियों ने संधि पूजा में 107 दीये, 108 कमल,108 बेल के पत्ते,आभूषण, पारंपरिक कपड़े, गुड़हल के फूल, चावल अनाज और एक लाल फल व माला का उपयोग कर मां दुर्गा का श्रृंगार कराया। इसके बाद मां दुर्गा के मंत्रों का जाप कर उनकी आरती कराई। काफी देर तक मंदिर में घंटी, मृदंग व अन्य पारंपरिक वाद्य यंत्र बजने से माहौल भक्तिमय हो गया।

सिंहदेव ने कहा- कुलदेवी से की सभी के अच्छे स्वास्थ्य की कामना

संधि पूजा उपरांत स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि मैंने परंपरा का निर्वहन आज किया है। पीढ़ी दर पीढ़ी परिवार के लोग इस परंपरा का निर्वहन कर रहे हैं। मैं भी उसी का एक हिस्सा बना हूं। मैंने आज मां महामाया से सभी के लिए सुख-समृद्धि की कामना की है। सभी के बेहतर स्वास्थ्य की कामना की है। मुझे पूरा विश्वास है मां के दरबार में पूरे मन से, स्वस्थ मन से मांगी गई दुआ दुआएं पूरी होती हैं, और पूरा विश्वास है, सरगुजा के साथ पूरा छत्तीसगढ़ ही नहीं देश के कोने कोने में रहने वाले लोग स्वस्थ होंगे। इस दौरान उनके साथ राज्य वन औषधि बोर्ड अध्यक्ष बालकृष्ण पाठक,शशिभाल सिंह,इंद्रजीत सिंह धंजल उपस्थित थे।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020

 



Source link

Farmer Movement: More Than 23 Trains Affected, 13 Canceled – किसान आंदोलन : 23 से अधिक ट्रेनें प्रभावित, 13 निरस्त 10 चलेंगी आधे रास्ते से


Highlights

  • पंजाब में चल रहे किसान आंदोलन की वजह से 4 नवंबर तक प्रभावित रहेंगी ट्रेनें
  • जन शताब्दी और लखनऊ-चंडीगढ़ एक्सप्रेस समेत 12 से अधिक ट्रेन निरस्त
  • गोल्डन टेंपल, डिब्रूगढ़-अमृतसर एक्सप्रेस दौडेगी अंबाला तक

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क, सहारनपुर। पंजाब ( Punjab ) में किसानों के आंदोलन की वजह से ट्रेनों का संचालन अभी सामान्य नहीं हो पाया है। 13 ट्रेनें निरस्त की गई हैं और 10 से अधिक ट्रेनों को बीच रास्ते तक चलाए जाने का निर्णय रेलवे ने किया है। आशंका है कि यह ट्रेनें 4 नवंबर तक प्रभावित रहेंगी।

यह भी पढ़ें: सात माह बाद रविवार से पटरी पर दाैड़ेगी आला हजरत एक्सप्रेस

इन ट्रेनों के निरस्त होने से यात्रियों को भारी परेशानी उठानी पड़ेगी। इसकी वजह यह है कि त्योहारी सीजन में ट्रेनें रद्द हाेना यात्रा काे असुलभ बना देत है। त्याैहार में जाे लाेग अपने घरों को लाैटने की योजना बना रहे थे उनके लिए यह खबर परेशानी वाली हाे सकती है। ट्रेनों के निरस्तीकरण के बारे में अंबाला डिवीजन के सीनियर डीसीएम हरिमोहन का कहना है कि पंजाब में किसान आंदोलन की वजह से ट्रेनों को कैंसिल और शार्ट टर्मिनेट किया गया है। अभी तक उम्मीद जताई जा रही है कि 4 नवंबर तक यह ट्रेनें प्रभावित रहेंगी। 4 नवंबर के बाद जो भी निर्णय होगा वह तत्कालीन परिस्थितियों को देखते हुए किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा है कि यात्री किसी भी तरह की परेशानी से बचने के लिए सफर करने से पहले रेलवे के राष्ट्रीयकृत पूछताछ नंबर 139 पर संपर्क कर सकते हैं।

यह ट्रेन रहेंगी रदद्
ट्रेन संख्या 02054 और 02053 हरिद्वार-अमृतसर जन शताब्दी एक्सप्रेस 22 अक्टूबर से 4 नवंबर तक रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 04624 अमृतसर-सहरसा एक्सप्रेस 21 अक्टूबर से 4 नवंबर तक रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 04623 सहरसा से अमृतसर एक्सप्रेस 22 अक्टूबर से 4 नवंबर तक रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 04656 फिरोजपुर-पटना स्पेशल 23 व 30 अक्टूबर को रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 04655 पटना-फिरोजपुर स्पेशल 24 व 31 अक्टूबर को रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 04888 ऋषिकेश-बाड़मेर स्पेशल 21 अक्टूबर से 5 नवंबर तक रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 02231 और ट्रेन संख्या 02232 लखनऊ-चंडीगढ़ स्पेशल 22 अक्टूबर से 4 नवंबर तक रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 04998 भटिंडा-वाराणसी स्पेशल 25 अक्टूबर से 4 नवंबर तक रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 04612 श्री माता वैष्णों-देवी कटरा वाराणसी स्पेशल 25 अक्टूबर से 4 नवंबर तक रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 04924 चंडीगढ़-गोरखपुर स्पेशल 22 अक्टूबर से 4 नवंबर तक रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 02587 गोरखपुर-जम्मूतवी स्पेशल 26 अक्टूबर से 30 अक्टूबर तक रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 05097 भागलपुर-जम्मूतवी स्पेशल 27 अक्टूबर व 3 नवंबर को रद्द रहेगी
ट्रेन संख्या 03255 पाटलिपुत्र-चंडीगढ़ एक्सप्रेस 25 अक्टूबर से 4 नवंबर तक रद्द रहेगी

यह ट्रेनिंग होगी शार्ट टर्मिनेट
ट्रेन संख्या 02903 मुंबई-सेंट्रल अमृतसर गोल्डन टेंपल अंबाला तक चलेगी
ट्रेन संख्या 02925 बांद्रा-टर्मिनल अमृतसर एक्सप्रेस अंबाला तक चलेगी
ट्रेन संख्या 03307 और ट्रेन संख्या 03308 धनबाद-फिरोजपुर एक्सप्रेस अंबाला तक चलेगी
ट्रेन संख्या 04653 न्यूजलपाईगुड़ी-अमृतसर एक्सप्रेस सहारनपुर तक चलेगी
ट्रेन संख्या 02237 वाराणसी-जम्मूतवी एक्सप्रेस सहारनपुर तक चलेगी
ट्रेन संख्या 02357 कोलकाता-अमृतसर स्पेशल अंबाला तक चलेगी
ट्रेन संख्या 05933 डिब्रूगढ़-अमृतसर स्पेशल अंबाला तक चलेगी
ट्रेन संख्या 09025 बांद्राटर्मिनल से अमृतसर एक्सप्रेस अंबाला तक चलेगी
ट्रेन संख्या 02355 पटना से जम्मूतवी के बीच स्पेशल ट्रेन सहारनपुर तक चलेगी
ट्रेन संख्या 03255 पाटलिपुत्र-चंडीगढ़ स्पेशल सहारनपुर तक चलेगी











Source link

Do Not Commit These Mistakes While Offering Water To Sun God – सूर्य देव को जल चढ़ाने से चमक जाएगी सोई हुई किस्मत, इन बातों का रखें विशेष ध्यान


उगते हुए सूर्य को जल चढ़ाने की परंपरा कई सदियों से चली आ रही है। शास्त्रों के अनुसार, सूर्य को अर्घ्य देते समय कुछ ऐसी बातें हैं जिनका खास ध्यान रखना होता है। अगर सूर्य को अर्घ्य देते हुए ये गलतियां हो जाती हैं तो भगवान प्रसन्न होने के बजाय क्रोधित हो जाते हैं।

उगते हुए सूर्य को जल चढ़ाने की परंपरा कई सदियों से चली आ रही है। हम सब बचपन से अपने घर में देखते आ रहे है कि दादी, नानी रोजाना सुबह उगते हुए सूर्य को जल जरूर देती हैं। सूर्य को प्रसन्न करने का सबसे सरल उपाय है रोज सुबह तांबे के लोटे से इन्हें अर्घ्य देना। शास्त्रों के अनुसार, सूर्य को अर्घ्य देते समय कुछ ऐसी बातें हैं जिनका खास ध्यान रखना होता है। अगर सूर्य को अर्घ्य देते हुए ये गलतियां हो जाती हैं तो भगवान प्रसन्न होने के बजाय क्रोधित हो जाते हैं। सूर्य को शांति व शालीनता प्रदान करने का प्रतीक माना गया है। इसलिए सूर्य को जल चढ़ाते हुए कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। हर रोज सूर्य को जल चढ़ाने के क्या फायदें हैं, आइए जानते है।

महाभारत में कर्ण रोज करते थे सूर्य पूजा
जिन लोगों की कुंडली में सूर्य कमजोर हो उन्हें हर रोज सूर्य को जल देना चाहिए। इससे उनका आत्म विश्वास मजबूत होता है। सूर्य को जल देने से समाज में मान-सम्मान और प्रतिष्ठा में बढ़ोतरी होती है। सूर्य को जल देते समय अपना मुख पूर्व दिशा की तरफ रखें। महाभारत ग्रंथ के अनुसार कर्ण रोज सुबह सूर्य पूजा करते थे। सूर्य को अर्घ्य देते थे। कई कथाओं में बताया गया है कि भगवान श्रीराम भी रोज द‌िन सूर्य को जल चढ़ाकर पूजा करते थे।

यह भी पढ़े :— पीपल करेगा आपकी हर मनोकामनाएं पूरी: लेकिन इस दिन ना चढ़ाएं जल, वरना हो जाएंगे कंगाल

ऐसे चढ़ाएं सूर्य को जल…..
– सूर्यदेव को जल चढ़ाने के लिए रोज सुबह जल्दी बिस्तर छोड़ देना चाहिए। स्नान के बाद तांबे के लोटे से सूर्य को अर्घ्य अर्पित करें। जल चढ़ाते समय दोनों हाथों से लोटे को पकड़कर रखना चाहिए।
– लोटे में जल के साथ ही लाल फूल, कुमकुम और चावल भी जरूर डालना चाहिए।
– सूर्य को अर्घ्य देते समय जल की गिरती धार से सूर्य की किरणों को जरूर देखना चाहिए।
– पूर्व दिशा की ओर ही मुख करके ही सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए।
– ध्यान रखें जल चढ़ाते समय जमीन पर गिरा हुआ आपके पैरों तक नहीं पहुंचना चाहिए। किसी ऐसी जगह से सूर्य को जल चढ़ाएं, जहां से सूर्य को अर्पित किया गया किसी के पैरों में न आए।
– जल चढ़ाते समय सूर्य मंत्र ऊँ सूर्याय नम: का जाप करते रहना चाहिए।

यह भी पढ़े :— तिल से जानें अपने पार्टनर का व्यवहार, इन अंगों पर तिल मतलब प्‍यार की निशानी

sun_water12.jpg

जल चढ़ाते समय न करें ये गलतियां
– सूर्य को जल चढ़ाने का सबसे अच्छा समय सुबह-सुबह का ही होता है।
– जल चढ़ाते समय जूते-चप्पल नहीं पहनना चाहिए। नंगे पैर सूर्य को जल चढ़ाएं।
– जल चढ़ाने के बाद ध्यान रखें वह पानी आपके पैरों में नहीं आना चाहिए।
– इन बातों का ध्यान नहीं रखने से अशुभ प्रभाव भी हो सकता है।

sun_water11.jpg

सूर्य को जल देने के फायदे…
— ज्योत‌िषशास्‍त्र में सूर्य को आत्मा का कारक बताया गया है। इसलिए आत्म शुद्ध‌ि और आत्मबल बढ़ाने के लिए न‌ियम‌ित रूप से सूर्य को जल देना चाहिए।
— सूर्य को न‌ियम‌ित जल देने से शरीर ऊर्जावान बनता है और कार्यक्षेत्र में इसका लाभ म‌िलता है।
— अगर आपकी नौकरी में परेशानी हो रही है तो न‌ियम‌ित रूप से सूर्य को जल देने से उच्चाध‌िकारियों से सहयोग म‌िलने लगता है और मुश्क‌िलें दूर हो जाती हैं।
— सूर्य को जल देने के लिए तांबे के पात्र का उपयोग करना बेहतर रहता है।
— सूर्य को जल देने से पहले जल में चुटकी भर रोली म‌िलाएं और लाल फूल के साथ जल दें। इसके बाद जल देते समय 7 बार जल दें और सूर्य के मंत्र का जप करें।







Source link

Chhattisgarh: महीने में दूसरी बार कर्ज की कतार में सरकार, केंद्र से अब तक नहीं मिली जीएसटी क्षतिपूर्ति की राशि



Chhattisgarh: प्रदेश सरकार को जीएसटी क्षतिपूर्ति के रुप में करीब तीन हजार करोड़ रुपये से अधिक मिलना है।



Source link

Shahrukh Khan Donates PPE Kits To Corona Warriors – Shahrukh Khan ने छत्तीसगढ़ के कोरोना वॉरियर्स के लिए 2000 पीपीई किट्स किए डोनेट


मुंबई। बॉलीवुड में ‘किंग खान’ के नाम से मशहूर अभिनेता शाहरुख खान ( Shahrukh Khan ) ने छत्तीसगढ़ के कोरोना वॉरियर्स ( Corona Warriors ) के लिए 2000 पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्यूपमेंट (पीपीई) किट्स डोनेट की है। ये Personal Protective Equipment (PPE) kits शाहरुख ने अपने एनजीओ मीर फाउंडेशन ( Meer Foundation ) के जरिए दिए हैं। इस मदद के लिए छत्तीसगढ़ के कैबिनेट मंत्री टीएस सिंह देव ने आभार जताया है।

यह भी पढ़ें :’लक्ष्मी बम’ के बाद प्रकाश झा की ‘Aashram’ पर भी लगे धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप

कैबिनट मंत्री ने जताया आभार

छत्तीसगढ़ के कैबिनेट मंत्री टीएस सिंह देव ने अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से ट्वीट कर अभिनेता को धन्यवाद दिया है। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा,’हमारे फ्रंटलाइन वॉरियर्स की सुरक्षा के लिए पीपीई किट मुहैया कराने के लिए मैं शाहरुख खान और मीर फाउंडेशन का आभार व्यक्त करता हूं। राजश्री देशपांडे को हमसे सम्पर्क करवाने और इसे संभव बनाने के लिए भी धन्यवाद। आपकी इस उदारता ने हमारे हेल्थकेयर हीरोज की सुरक्षा करने के लिए कई लोगों को प्रेरित किया है।’

यह भी पढ़ें :पूनम पांडे के बाद क्या Sherlyn Chopra भी करने जा रही हैं शादी, वीडियो में किया इशारा

शाहरुख ने कही ये बात

छत्तीसगढ़ के कैबिनेट मंत्री के इस ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए लिखा,’सर, हम सब हमारे बहन और भाइयों की इस मुसीबत के समय से उबरने के लिए जो भी संभव है, मदद करने की कोशिश कर रहे हैं। आप सभी को इस अभियान के लिए शुभकामनाएं।’ इस ट्वीट पर शाहरुख के फैंस ने अपने चहेते स्टार की जमकर तारीफ की है। लोगों का कहना है कि शाहरुख शुरू से इस महामारी से निपटने के लिए मदद कर रहे हैं।

पीएम केयर्स में भी कर चुके हैं मदद
इससे पहले शाहरुख खान कोरोना से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से गठित पीएम-केयर फंड में भी योगदान दे चुके हैं। इसके अलावा उन्होंने महाराष्ट्र, दिल्ली और पश्चिम बंगाल में भी आर्थिक मदद की है। मुंबई में अभिनेता ने अपना कार्यालय क्वॉरंटीन सेंटर बनाने के लिए मुंबई म्यूनिसिपल को उपलब्ध करवाया था। गौरी खान ने भी इसे क्वॉरंटीन सेंटर में बदलने के लिए मदद की थी।

मीर फाउंडेशन के जरिए की मदद

शाहरुख खान और उनकी पत्नी गौरी खान ने अपने मीर फाउंडेशन के जरिए लॉकडाउन से लेकर अब तक जरूरतमंदों की मदद की है। मीर फाउंडेशन ने रोटी फाउंडेशन के साथ मिलकर मुंबई के कई इलाकों में ताजा भोजन उपलब्ध करवाया था। इसके अलावा भी कई प्रोजेक्ट कोरोना पीड़ितों के लिए शाहरुख चला रहे हैं।





Source link