Home Blog Page 2

आपरेशन कर महिला के पेट से निकाला तीन किलो का गोला



पाली (नईदुनिया न्यूज)। पाली के एक निजी अस्पताल में निःशुल्क आपरेशन कर एक महिला के पेट से तीन किलोग्राम का गोला निकाला गया। महिला पिछले तीन साल से पेट में दर्द की समस्या से जूझ रही थी, लेकिन बड़े अस्पतालों में उपचार के लिए भी बड़ा और महंगा खर्च बताए गए। आर्थिक मुश्किलों के चलते महिला आपरेशन कराने का साहस नहीं जुटा पा रही थी। आखिर उ



Source link

Raipur News: छत्तीसगढ़ से केंद्रीय पूल में उसना के साथ अरवा चावल लेने का आग्रह


Publish Date: | Fri, 04 Dec 2020 04:02 AM (IST)

रायपुर। नईदुनिया, राज्य ब्यूरो

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में खरीफ वर्ष 2020-21 में समर्थन मूल्य पर उपार्जित किए जा रहे धान का समय पर कस्टम मिलिंग कराने के संबंध में केंद्रीय खाद्य मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में राज्य की कस्टम मिलिंग की क्षमता का उल्लेख करते हुए केंद्रीय पूल के अंतर्गत भारतीय खाद्य निगम (एफसीआइ) में 26 लाख टन उसना चावल और 14 लाख टन अरवा चावल लेने की अनुमति देने का अनुरोध किया है।

मुख्यमंत्री बघेल ने केंद्रीय खाद्य मंत्री गोयल को लिखे पत्र में कहा है कि एफसीआइ 2016-17 और उसके पहले उसना के साथ-साथ अरवा चावल भी उपार्जित किया जाता रहा है। अतः एफसीआइ द्वारा राज्य की आवश्यकता से अतिशेष चावल उसना के साथ-साथ अरवा चावल के रूप में भी लिया जाना होगा, ताकि धान का समय पर निराकरण किया जा सके और धान के रख-रखाव में कोई क्षति न हो। मुख्यमंत्री ने पत्र में यह भी लिखा है राज्य में स्थापित 400 उसना राईस मिलों की उसना मिलिंग क्षमता 5.68 लाख टन प्रतिमाह और 1504 अरवा मिलों की अरवा मिलिंग क्षमता 18.83 लाख टन प्रतिमाह है। इसे ध्यान में रखते हुए खरीफ वर्ष 2020-21 में एफसीआइ में 26 लाख टन उसना चावल और 14 लाख टन अरवा चावल उपार्जन की अनुमति दी जाए।

उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ राज्य में खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में समर्थन मूल्य पर उपार्जित किए जाने वाले धान के कस्टम मिलिंग उपरांत 60 लाख टन चावल लेने की कार्ययोजना का अनुमोदन केंद्र सरकार ने किया है। इसमें से एफसीआइ में केंद्रीय पूल अंतर्गत अनुमानित सरप्लस 40 लाख टन चावल उपार्जित किया जाएगा। बाकी 20 लाख टन (15 लाख टन अरवा, स्टेट पूल अंतर्गत 4.80 लाख टन अरवा और 0.20 लाख टन उसना) चावल राज्य में पीडीएस की आवश्यकता के लिए छत्तीसगढ़ स्टेट सिविल सप्लाईज कार्पोरेशन लिमिटेड में उपार्जित किया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 



Source link

INDORE: Patrika Abhiyan- Har Gali Ho Mohalla School – कोरोना ने कर दिया था किताबों से दूर, अब मोहल्ले में ही मिलने लगी शिक्षा


पत्रिका अभियान : हर गली हो मोहल्ला स्कूल
पहले दिन मंगलवार को अहिरखेड़ी, फिल्टर स्टेशन, स्कीम नंबर 78, गौरी नगर, बिजासन, कालानी नगर, अंबिकापुरी क्षेत्रों में लगे मोहल्ला स्कूल

इंदौर. कोरोना के बीच बच्चों तक शिक्षा का उजियारा पहुंचाने के लिए पत्रिका ने ‘हर गली हो मोहल्ला स्कूलÓ अभियान शुरू किया है। गुरुवार को अभियान के पहले ही दिन शहर के कई इलाकों में मोहल्ला स्कूल लगे। स्वेच्छा से पढ़ाने पहुंचे लोगों ने बच्चों को घरों से बुलाकर कक्षाएं लीं। शहर के एक दर्जन से ज्यादा इलाकों में शुक्रवार से मोहल्ला स्कूल लगेंगे।

कोरोना संक्रमण के बीच बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं। नौवीं से बारहवीं के बच्चों के लिए तो स्कूलों में डाउट क्लीयरिंग सेशन हैं, लेकिन आठवीं तक वालों के लिए ऐसी कोई व्यवस्था नहीं हो पाई। इसका खामियाजा उन बच्चों को उठाना पड़ रहा है जिनके पास ऑनलाइन कक्षाओं के लिए मोबाइल और इंटरनेट की सुविधा नहीं है। इन्हीं बच्चों तक शिक्षा का उजियार पहुंचाने के लिए पत्रिका ने ‘हर गली हो मोहल्ला स्कूलÓ अभियान शुरू किया। मंगलवार को अहिरखेड़ी, फिल्टर स्टेशन, स्कीम नंबर 78, गौरी नगर, बिजासन, कालानी नगर, अंबिकापुरी क्षेत्रों में मोहल्ला स्कूल लगे। पहले दिन ही इन कक्षाओं में 50 से ज्यादा बच्चे पढऩे पहुंचे। सभी जगह लगी मोहल्ला क्लास में बच्चों के हाथ सैनेटाइज कराने के बाद सोशल डिस्टेंसिंग से बैठाया गया। मास्क नहीं लाने वाले बच्चों को मास्क भी दिए गए।

कक्षा शुरू हुई तो जुटने लगे बच्चे

देवधर्म फिल्टर स्टेशन क्षेत्र में शिक्षक दिनेश परमार कक्षाएं लेने पहुंचे। तीन बच्चों से मोहल्ला स्कूल की कक्षा की शुरुआत हुई। जब आस-पड़ोस वालों को इसका पता चला तो 8 बच्चे जुट गए। यहां पढऩे आए सातवीं कक्षा के आयुष सोलंकी को स्कूल में टीचर बनना है। मगर, कक्षाएं नहीं लग पाने से इस साल वह पढ़ नहीं पा रहा था। मोहल्ला क्लास के बारे में जाकर वह बैग और किताबें लेकर आ गया। इसी मोहल्ला स्कूल में आई आठवीं की प्रिया राजेश बड़ी होकर डॉक्टर बनना चाहती है। एंड्राइड मोबाइल नहीं होने के कारण उसकी ऑनलाइन कक्षा नहीं हो पा रही। प्रिया ने वादा किया है कि वह रोज न सिर्फ मोहल्ला स्कूल आएगी बल्कि घर जाकर भी मन लगाकर पढ़ेगी।

खाली समय का होगा सही इस्तेमाल

छोटी खजरानी में शिक्षक भारत भार्गव ने आस-पास रहने वाले बच्चों को पढ़ाने बुलाया। बच्चों ने उन्हें बताया, स्कूल नहीं लगने के कारण घर पर भी पढ़ाई नहीं हो पा रही है। यहां पढऩे आया गोपाल सिंह बड़ा होकर इंजीनियर बनना चाहता है। कोरोना के कारण आठवीं में ही रिजल्ट बिगडऩे की स्थिति बन गई थी। भार्गव ने पहले दिन सभी बच्चों को गणित विषय पढ़ाया। उन्होंने बताया, स्कूल से लौटने के बाद बेकार ही रहते थे। मोहल्ला स्कूल से जुडऩे के बाद खाली समय का सही इस्तेमाल हो सकेगा।

यह अभियान रोशनी की किरण, हम देंगे संसाधन

मोहल्ला स्कूल अभियान से निजी स्कूल संचालक भी जुडऩे को राजी हैं। एनी बेसेंट स्कूल के मोहित यादव ने हर गली हो मोहल्ला स्कूल अभियान को जरूरतमंद बच्चों के लिए रोशनी की किरण बताया। उनका कहना है कि कई बच्चे ऑनलाइन कक्षाएं नहीं कर पाने से पढ़ाई का नुकसान उठा रहे हैं। मोहल्ला स्कूलों के लिए हम अपने संसाधन देने को तैयार हैं। मंगलवार से स्कूल परिसर में भी कक्षा लगाएंगे।

सभी बच्चों को पढ़ाएंगे शिक्षक : डीपीसी

मोहल्ला स्कूल अभियान से जुडऩे के लिए शिक्षा विभाग भी आगे आया है। अब तक सरकारी स्कूलों के शिक्षक गली-मोहल्लों में जाकर सिर्फ अपने स्कूल में नामांकन कराने वाले बच्चों को पढ़ा रहे थे। मगर, वे इन बच्चों के साथ-साथ अन्य बच्चों को भी शिक्षा देंगे। जिला परियोजना समन्वयक अक्षय सिंह राठौड़ ने बताया, सभी शिक्षकों को मोहल्ला स्कूल से जुडऩे के लिए कहा जा रहा है। पत्रिका की यह पहल निश्चित रूप से बड़ा बदलाव लाने में कामयाब रहेगी।

कोरोना ने कर दिया था किताबों से दूर, अब मोहल्ले में ही मिलने लगी शिक्षाकोरोना ने कर दिया था किताबों से दूर, अब मोहल्ले में ही मिलने लगी शिक्षा





Source link

भाजपा पार्षदों ने रखी राशन कार्ड बनाने का काम शुरू करने की मांग



कोरबा (नईदुनिया न्यूज )। भाजपा पार्षदों ने कलेक्टर के नाम जिला खाद्य अधिकारी को ज्ञापन सौंप कर शीघ्र राशन कार्ड बनाने का काम शुरू करने की मांग की है। पार्षदों का कहना है कि कोरोना काल में एक ओर राज्य सरकार जहां गरीब मजदूरों को विभिन्ना सुविधाएं देने का वादा कर रही है ,वहीं जिले में गरीब मजदूरों के हक पर डाका डाला जा रहा



Source link

Balod News: बालोद में गहमागहमी के बीच हुआ जिला योजना समिति के सदस्यों का चुनाव


Publish Date: | Fri, 04 Dec 2020 02:14 AM (IST)

बालोद (नईदुनिया न्यूज)। जिले के जिला योजना समिति के सदस्यों का चुनाव गुरुवार को कलेक्टोरेट के आडिटोरियम हाल में बेहद गहमागहमी कमी के बीच में संपन्ना हुआ। जिसमें एक बार फिर कांग्रेस ने बाजी मारी तो वहीं भाजपा का सूपड़ा साफ हो गया। जिला पंचायत सदस्यों के लिए सात सीट तो नगरीय निकाय के लिए जिला योजना समिति के सदस्य के लिए एक सीट निर्धारित था। इन सभी सीटों पर कांग्रेस अपना कब्जा जमाने में सफल रहा। कांग्रेस के जिलाध्यक्ष चंद्रप्रभा सुधाकर व बालोद नगर पालिका अध्यक्ष विकास चोपड़ा ने अपने पार्टी की ओर से चुनाव को लेकर मोर्चा संभाला था। हालांकि इसमें सभी पार्षदों व जिला पंचायत सदस्यों सहित कांग्रेस के तमाम नेताओं व कार्यकर्ताओं ने भी पूरी कोशिश की जिसका परिणाम कांग्रेस के पक्ष में रहा।

शुरुआती दौर में नामांकन भरने के समय निकल जाने के बाद कांग्रेस प्रत्याशी द्वारा फार्म जमा करने का आरोप लगाते हुए भाजपा के पार्षदों व कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा भी किया और भाजपा के पार्षदों ने प्रशासन पर सत्ता पक्ष के दबाव में आकर कार्य करने का भी आरोप लगाया। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के बालोद नगर पालिका अध्यक्ष विकास चोपड;ा ने उक्त आरोप को बेबुनियाद करार देते हुए खारिज कर दिया। गलत तरह से वोटिंग का आरोप लगाते हुए भाजयुमो जिला अध्यक्ष अमित चोपड़ा सहित अन्य लोगों ने नारेबाजी भी की जिन्हें तहसीलदार रश्मि वर्मा ने समझाया की यहां हंगामा न करें विधिवत आपत्ति कर सकतें हैं।

समय समाप्त होने के बाद भी लिया गया आवेदन

हंगामे की वजह बताते हुए जिला अध्यक्ष अमित चोपड़ा ने कहा जिला योजना समिति सदस्य के लिए शहरी क्षेत्र से एक पद था जिसके लिए निर्धारित समय तक भाजपा से सिर्फ पार्षद कमलेश सोनी ने नामांकन भरा था। हम निर्विरोध की स्थिति में थे समय रहते तक कांग्रेस से किसी ने नामांकन नहीं भरा था दूसरा किसी का नामांकन नहीं था दोपहर 12.30 बजे तहसीलदार ने भी कहा अब समय समाप्त हो गया है। कोई नामांकन नहीं भर सकता लेकिन एक बजे सत्ता का फायदा उठाते हुए कांग्रेस की ओर से दल्ली के पार्षद ने नामांकन भर दिया और उनके आवेदन को भी स्वीकार कर लिया गया जिसका हमने विरोध किया।

किसे कितने वोट मिलें

इस चुनाव में शहरी क्षेत्र के लिए 132 पार्षद ने वोट डालने थे। जिसमें 71 वोट कांग्रेस प्रत्याशी रोशन पटेल को, 54 वोट भाजपा प्रत्याशी कमलेश सोनी को मिले। 1 वोट निरस्त हुआ। कुल 126 वोट पड़े. 6 पार्षद नहीं आए थे वहीं जिला पंचायत सदस्यों के बीच क्रास वोटिंग भी हुई कांग्रेस के 9 सदस्य हैं तो के 5 लेकिन वोटिंग हुई तो कांग्रेस के दो लोग 8 वोट भी पाए हुए थे यानि भाजपा के जिला पंचायत सदस्यों ने कांग्रेस को भी वोट दिया था जिला पंचायत ग्रामीण क्षेत्र में चंद्रप्रभा सुधाकर, केदार देवांगन, धनेश्वरी नरेंद्र सिन्हा, मीणा सत्येन्द्र साहू , करिश्मा सलामे, ललिता पिमन साहू, बसंती बाला भेड़िया विजयी रही. सभी कांग्रेस समर्थित हैं। भाजपा से प्रत्याशी पुष्पेंद्र चन्द्राकर, मोंटी यादव, होरीलाल रावटे, कृतिका सतानंद साहू, संध्या भरद्वाज सभी हार गए।

दल्ली का यह कांग्रेसी पार्षद जीता

निर्वाचन में कांग्रेस के प्रत्याशी नपा दल्लीराजहरा वार्ड क्रमांक 20 के पार्षद रोशन पटेल विजयी हुए। चुनाव परिणाम आने के बाद जिला योजना समिती के नवनिर्वाचित सदस्य रोशन पटेल कांग्रेस भवन पहुंचे। जहां जिला कांग्रेस अध्यक्ष चंद्रप्रभा सुधाकर, दल्लीराजहरा नपा अध्यक्ष शीबू नायर,बालोद नपा अध्यक्ष विकास चोपड़ा, ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष संगीता नायर, शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनोद बंटी शर्मा सहित समस्त नगरीय निकाय के पार्षदों और कांग्रेस कार्यकर्ता व पदाधिकारियों ने उनका स्वागत सम्मान किया।

000000000000000

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 



Source link